गुलज़ार साब की अपनी बनायी फिल्मों में "लेकिन" और "अचानक" दो ही थ्रिलर हैं। अचानक में गुलज़ार समाज में साधारणतया बसने वाली बेवफाई, कत्ल, नैतिकता और मौत की सजा आदि की परिभाषाओं को खंगालते हैं। "सैंकड़ों को वहाँ जंग में... Continue Reading →