हरे-भरे वृक्षों की भरपूर जीवंत उपस्थिति से हिलोरें मारते पर्वतीय जंगल, मस्तक ऊँचा ताने खड़ी पर्वत की चोटियाँ, रहस्यमयी गहरी खाइयां, खुशगवार मौसम, गुगुदाकर जाती ठंडी हवाएं, कहीं तो चेहरे को छू-छू जाते बादल के टुकड़े, और कहीं ऊपर साफ... Continue Reading →