खोजें

Cine Manthan

श्रेणी

English

The Pursuit of Happyness (2006) : हाशिए पर पड़े जीवन का निराशा के गर्त से उठकर उदय होना

सिनेमा विचित्र लगने वाले क्षेत्रों में भी अतिक्रमण कर चुका है पर अभी भी मानवीय भावनाओं को सिनेमा से अलग किया जाना संभव नहीं| रोबोट, एलियन, वैम्पायर और जोम्बिस पर आधारित फिल्मों की भीड़ में अभी भी फ़िल्में बनती हैं... Continue Reading →

शशि कपूर : ‘दादा साहेब फाल्के’

सिनेमा के भारतीय प्रेमी केन्द्र सरकार को धन्यवाद कह सकते हैं कि काफी समय से बीमार अभिनेता-निर्माता और निर्देशक शशि कपूर को अंततः उनके दवारा भारतीय सिनेमा को दिए  गये उल्लेखनीय योगदान के कारण उनके प्रति न्याय करते हुए (और... Continue Reading →

Invictus (2009): खेल से राष्ट्रीय एकता बसाने वाला जननेता

कुछ फिल्में फिल्में ही नहीं रह जातीं बल्कि वे सिनेमा से थोड़ा आगे बढ़कर बड़े स्तर पर जीवन से ऐसे जुड़ जाती हैं कि जीवन को ही प्रेरणा देने लगती हैं और उसे सुधारने लगती हैं। Clint Eastwood की Invictus... Continue Reading →

The Other End of the Line (2008) : इंडो-अमेरिकन प्रेमकहानी

ओह्ह्ह्ह मुम्बई तो भारत का New York है और वहाँ नौकरियों का विस्फोट हो गया है अमेरिकी धनी Kit Hawksin अपने होटल में ठहरी हुयी भारत से अमेरिका गयी प्रिया से मिलने पर  कहता है। मैं New York को अमेरिका... Continue Reading →

Partition (2007) : भारत के हिंसक विभाजन में जन्मी प्रेमकथा

एक ही विषय पर दो लेखक अलग-अलग कहानियाँ लिख सकते हैं। एक ही कहानी पर दो पटकथा लेखक भिन्न लगने वाली पटकथायें तैयार कर सकते हैं। एक ही विषय पर दो निर्देशक अलग प्रतीत होने वाली फिल्में बना सकते हैं।... Continue Reading →

Murder Unveiled (2006) : Indo-Canadian Honour Killing

बुरे विचार, बुरे संस्कार और झूठी शानो-शौकत के भुलावे सात संमुदर पार भी पीछा नहीं छोड़ा करते। वे सब मनुष्य के साथ इस तरह स्थायी पैरहन की तरह चिपके रहते हैं जैसे कर्ण के साथ उसके कवच और कुंडल। दूसरे... Continue Reading →

The Beguiled(1971): स्त्री संसार में छलिया Clint Eastwood

व्यवसायिक फिल्मों के सुपर स्टार्स में से बिरले ही ऐसे होंगे जो अपनी बनी बनायी छवि को खुद ही तोड़ने की कोशिश करेंगे। अमेरिकी साहित्य का एक उपवर्ग है Southern Gothic और लेखक Thomas P. Cullinan ने इसी उपवर्ग के... Continue Reading →

The Last Station (2009) : Leo Tolstoy के आख़िरी साल का बयान

व्यक्ति से बड़ी उसकी छवि होती है यह तो एक सिद्ध सी बात है और छवि अगर व्यक्ति के ऐसे विचारों से बने जो कि लाखों लोगों को प्रभावित करें या करने लगें तो व्यक्ति की छवि भी उसी अनुपात... Continue Reading →

The Yellow Handkerchief (2010) : कल, आज और कल को खंगालती प्रेम कहानी

जीवन में प्रेम एक बहुत बड़ी अनुभूति है पर जीवन के अन्य तत्वों या अनुभूतियों की तरह प्रेम में भी सब कुछ स्थायी नहीं होता और इसमें भी उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। एक कला जो नहीं बदलती वह खुद प्रेम... Continue Reading →

Little Fugitive(1953) : बचपन के दिन और बाल मन

बच्चे वर्तमान में जीते हैं और एक समय में उनका जो भाव होता है वह इतनी अधिक तीव्रता और गहरायी लिये हुये होता है कि उन्हे और कुछ सूझता ही नहीं। एक उम्र होती है जब बच्चे को अगर वह... Continue Reading →

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .

Up ↑